गुरुवार, 4 जुलाई 2013

ब्रज बांसुरी" की रचनाएँ ....भाव अरपन ..नौ ..अगीत .. ....डा श्याम गुप्त....



            ब्रज बांसुरी" की रचनाएँ .......डा श्याम गुप्त ...
              
                     मेरे शीघ्र प्रकाश्य  ब्रजभाषा काव्य संग्रह ..." ब्रज बांसुरी " ...की ब्रजभाषा में रचनाएँ  गीत, ग़ज़ल, पद, दोहे, घनाक्षरी, सवैया, श्याम -सवैया, पंचक सवैया, छप्पय, कुण्डलियाँ, अगीत, नवगीत आदि  मेरे अन्य ब्लॉग .." हिन्दी हिन्दू हिंदुस्तान " ( http://hindihindoohindustaan.blogspot.com ) पर क्रमिक रूप में प्रकाशित की जायंगी ... .... 
        कृति--- ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा में विभिन्न काव्यविधाओं की रचनाओं का संग्रह )
         रचयिता ---डा श्याम गुप्त 
                     ---   सुषमा गुप्ता 
प्रस्तुत है .....भाव अरपन ..नौ....अगीत ....

सुमन १....सुख ..
इक दूजे सौं
दूरि है जावे ते 
हिया की दूरी घटि जावे है |
वियोग में देर लौं
राह देखिबे के बाद 
मिलन कौ सुख 
और हूँ अनूठौ है जावै है |

सुमन ३-तिहारे बोल....
तिहारे बोल 
बेरि बेरि काननि में आवैं हैं ;
रुबावत हैं
मनावत हैं
समुझावत हैं 
अबिनासी अनहद नाद की लौं 
बेरि बेरि
तिहारी सुधि दिलावें हैं  |

सुमन ५ - उपलब्धि ...
मन के कोरे कागद पै
तिहारी छवि
जोत किरन लौं लहराई 
एक नई कविता
खिलि  आई ,
पुष्पित है आई |

सुमन ८ -अमर ....
मरिबे  के बाद, जीव-
जदपि छूटि जावै है -
बंधन ते, जगत ते, पर -
कैद है जावै है,
मन में,
आत्मजननि के, अपुनि जनन के,
सुधि रूपी बंधन में, और-
है जावै है ...अमर |







9 टिप्‍पणियां:

आशा जोगळेकर ने कहा…

वाह कितने प्यारे प्यारे गीत । अंतिम वाला तो बहुत
बहुत सुंदर और आध्यात्मिक भी ।

shyam Gupta ने कहा…

dhanyvad aashaj....

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

लाजवाब अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

Ashok Khachar ने कहा…

बहुत बढिया...सुन्दर ..

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद अशोक जी....

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद प्रसन्न जी....

Lalit Chahar ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
---
हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल किया गया है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} (01-09-2013) को हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |
---
सादर ....ललित चाहार

Lalit Chahar ने कहा…

हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {साप्ताहिक चर्चामंच} पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में दूसरी चर्चा {रविवार} (01-09-2013) को हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 को है। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |
---
सादर ....ललित चाहार

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद चाहर जी....