शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

- शूर्पणखा काव्य उपन्यास----विनय.... .....रचयिता -डा श्याम गुप्त


- शूर्पणखा काव्य उपन्यास----विनय.... .....रचयिता -डा श्याम गुप्त


   शूर्पणखा काव्य उपन्यास-- नारी विमर्श पर अगीत विधा खंड काव्य .....रचयिता -डा श्याम गुप्त  
                                               
                                 विषय व भाव भूमि
              स्त्री -विमर्श  व नारी उन्नयन के  महत्वपूर्ण युग में आज जहां नारी विभिन्न क्षेत्रों में पुरुषों से कंधा मिलाकर चलती जारही है और समाज के प्रत्येक क्षेत्र में प्रगति की  ओर उन्मुख है , वहीं स्त्री उन्मुक्तता व स्वच्छंद आचरण  के कारण समाज में उत्पन्न विक्षोभ व असंस्कारिता के प्रश्न भी सिर उठाने लगे हैं |
             गीता में कहा है कि .."स्त्रीषु दुष्टासु जायते वर्णसंकर ..." वास्तव में नारी का प्रदूषण व गलत राह अपनाना किसी भी समाज के पतन का कारण होता  है |इतिहास गवाह है कि बड़े बड़े युद्ध , बर्बादी,नारी के कारण ही हुए हैं , विभिन्न धर्मों के प्रवाह भी नारी के कारण ही रुके हैं | परन्तु अपनी विशिष्ट क्षमता व संरचना के कारण पुरुष सदैव ही समाज में मुख्य भूमिका में रहता आया है | अतः नारी के आदर्श, प्रतिष्ठा या पतन में पुरुष का महत्त्वपूर्ण हाथ होता है | जब पुरुष स्वयं  अपने आर्थिक, सामाजिक, पारिवारिक, धार्मिक व नैतिक कर्तव्य से च्युत होजाता है तो अन्याय-अनाचार , स्त्री-पुरुष दुराचरण,पुनः अनाचार-अत्याचार का दुष्चक्र चलने लगता है|
                 समय के जो कुछ कुपात्र उदाहरण हैं उनके जीवन-व्यवहार,मानवीय भूलों व कमजोरियों के साथ तत्कालीन समाज की भी जो परिस्थिति वश भूलें हुईं जिनके कारण वे कुपात्र बने , यदि उन विभन्न कारणों व परिस्थितियों का सामाजिक व वैज्ञानिक आधार पर विश्लेषण किया जाय तो वे मानवीय भूलें जिन पर मानव का वश चलता है उनका निराकरण करके बुराई का मार्ग कम व अच्छाई की राह प्रशस्त की जा सकती है | इसी से मानव प्रगति का रास्ता बनता है | यही बिचार बिंदु इस कृति 'शूर्पणखा' के प्रणयन का उद्देश्य है |
                   स्त्री के नैतिक पतन में समाज, देश, राष्ट्र,संस्कृति व समस्त मानवता के पतन की गाथा निहित रहती है | स्त्री के नैतिक पतन में पुरुषों, परिवार,समाज एवं स्वयं स्त्री-पुरुष के नैतिक बल की कमी की क्या क्या भूमिकाएं  होती हैं? कोई क्यों बुरा बन जाता है ? स्वयं स्त्री, पुरुष, समाज, राज्य व धर्म के क्या कर्तव्य हैं ताकि नैतिकता एवं सामाजिक समन्वयता बनी रहे , बुराई कम हो | स्त्री शिक्षा का क्या महत्त्व है? इन्ही सब यक्ष प्रश्नों के विश्लेषणात्मक व व्याख्यात्मक तथ्य प्रस्तुत करती है यह कृति  "शूर्पणखा" ; जिसकी नायिका   राम कथा के  दो महत्वपूर्ण व निर्णायक पात्रों  व खल नायिकाओं में से एक है , महानायक रावण की भगिनी --शूर्पणखा | अगीत विधा के षटपदी छंदों में निबद्ध यह कृति-वन्दना,विनय व पूर्वा पर शीर्षकों के साथ  ९ सर्गों में रचित है | 
                   ----प्रस्तुत है आगे ...विनय..........विष्णु --अर्थात विश्व के अणु.... जग-जगत के मूल आधार श्री हरि...जो समय- समय पर पृथ्वी पर अवतार लेते हैं,जो साक्षात विनय के अवतार हैं, आदि-शक्ति पत्नी श्री लक्ष्मी के सम्मुख भी सीने पर भृगु मुनि के चरण प्रहार पर भी जो अपनी विनयशीलता नहीं छोड़ते......और विश्व-पूज्य पद पाते हैं ....जो  स्वयं राम हैं उनकी वन्दना-विनय  के बिना किसी  कथा का , मूलतः राम-कथा आरम्भ कैसे किया जाय......कुल ५ तुकान्त छंद....

                विनय

कमला के कान्त की शरण धर पंकज कर,
श्याम' की विनय है यही कमलाकांत से |
भारत विशाल की ध्वजा फहरे विश्व में ,
कीर्ति-कुमुदिनी नित्य मिले निशाकांत से ||

ह्रदय कमल बसें शेष-शायी नारायण,
कान्हा-रूप श्री हरि मन में बिहार करें |
सीता-पति राम रूप , प्राण में बसें नित,
लीलाम्बुधि विष्णु , इन नैननि निवास करें ||

लौकिक -अलौकिक भाव दिन दिन वृद्धि पायं ,
श्री हरि प्रदान सुख-सम्पति, सुसम्मति करें |
प्रीति-सुमन खिलें जग, जैसे रवि-कृपा नित,
फूलें सर पंकज ,वायु जल महि गति भरें  ||

पाप दोष भ्रम शोक, देव सभी मिट जायं ,
ऊंच-नीच, भेद-भाव,  इस देश से मिटें  ||
भारत औ भारती, बने पुनः  विश्व-गुरु ,
ज्ञान दीप जलें, अज्ञानता के घन छटें ||

कृष्ण-रूप गीता ज्ञान, मुरली लिए कर,
राम-रूप धनु-बाण, कर लिए एक बार |
भारत के जन-मन में,पुनः निवास करें,
श्याम' की विनय यही, कर जोरि बार बार ||       ----क्रमश आगे ....पूर्वा पर....

2 टिप्‍पणियां:

Kunwar Kusumesh ने कहा…

आपको पहली बार पढ़ा ,अच्छा लगा.

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद कुशुमेश जी...